Wednesday, June 21, 2017

योग से जुड़ें

#poetry#motivational
#BnmRachnaWorld
योग से जुड़ें
--------------
योग से जुड़ें, योग से जोड़ें।
मन को अमन की ओर मोड़ें।

सकारात्मक चिन्तन हो
गुणात्मक परिवर्तन हो।

मन के कुविचारों को छोड़ें।
योग से जुड़ें, योग से जोड़ें।

साँसों को अहसासों में घोलें।
चिंतन के नवीन पट खोलें।

अन्धविस्वासों के क्रम को तोड़ें।
योग से जुड़े, योग से जोड़ें।

स्नेह से जीवन को सिंचित करें।
प्रेम के पथ को आलोकित करें।

हिंसा के पथ को शांति की ओर मोड़ें।
योग से जुड़े, योग से जोड़ें।

©ब्रजेन्द्र नाथ मिश्र
  21-06-2017
  जमशेदपुर

No comments:

दुर्गा स्तुति-स्नेह सुधा का वर्षण कर

#poem#devotional #BnmRachnaWorld कल्याणमयी, हे विश्व्विमोहिनि, हे रूपमयी, हे त्रासहारिणि। हे चामुन्डे, हे कात्यायिनी, हे जगतकारिणी, ह...